Friday, September 9, 2011

इश्क परवाह

इश्क परवाह न करता है, किसी वजाहत की,
दरिया में उतर जाता है, परवाह नहीं हिफाजत की,


.

No comments:

Post a Comment