Sunday, September 25, 2011

आते-आते

पास आते-आते कदम रुक से जाते हैं,
क्यूँ वो अनजाने से दर से सहम से जाते हैं,


.

No comments:

Post a Comment