Tuesday, September 27, 2011

अब कुछ

अब कुछ ख़त लिखने दो,
खता हुयी जो उसकी सजा मिलने दो,
न माफ़ी अब मांगने दो,
सजा सारे जिन्दगी भुगतने दो,


.

No comments:

Post a Comment