Wednesday, September 14, 2011

देख ज़माने

देख ज़माने की हकीकत से,
न हूरे इल्म पाया है,
देखते-देखते ज़माना,
बस रूहे इल्म पाया है,


.

No comments:

Post a Comment