Tuesday, September 27, 2011

ये मासूम

ये मासूम हुश्न, निगाहों से कितनों का कत्ल कर देता है,
गवाह भी कहाँ से लायें, जख्म जो दिल में कर देता है,

.



No comments:

Post a Comment