Monday, September 26, 2011

घुटते-घुटते

घुटते-घुटते से पल, एक सांस लेना दूभर हो जाता है,
घुटनों के बल रहना पड़ता है, हर पल दूभर हो जाता है,


.

No comments:

Post a Comment