Sunday, September 25, 2011

जो दिल्लगी

कर गयी जो दिल्लगी, वो आज तक याद आती है,
अपनी न हो पायी, किसी और के साथ अब जाती है,


.

No comments:

Post a Comment