Monday, September 26, 2011

जिस्म हमने

जिस्म हमने देखे नहीं आज तक,
लैला-मजनू, हीर-रांझा, सीरी-फरहाद, के,
पर रूहें उनकी जिन्दा हैं अभी तक,
कितनी पाकीदगी रही होगी इश्क में उनके,


.

No comments:

Post a Comment