Wednesday, September 14, 2011

भरोसा यूँ

भरोसा यूँ था तेरे प्यार से,
इसलिए वफ़ा न कर पाया,
कल किसी और से,
प्यार करते हुए तुझे जो पाया,


.

No comments:

Post a Comment