Wednesday, September 14, 2011

नज़र न

नज़र न की जिस्म पर, रूह कांप गयी,
नज़रों से नज़रें मिली, नज़रें भांप गयी,


.

No comments:

Post a Comment