Thursday, September 15, 2011

रोज़ इसी

सह्फन-ओ-अख्लियत, आरमान मेरा दिल में उतार ले,
रोज़ इसी तरह से मिलेंगे, वक्त ज़रा निकाल ले,


.

No comments:

Post a Comment