Thursday, September 29, 2011

तनहा-सा खड़ा

यूँ ही तनहा-सा खड़ा था,
अपने गम में डूबा हुआ,
याद उसकी सताती थी,
उसी की याद में खोया हुआ,


.

No comments:

Post a Comment