Sunday, September 25, 2011

गर नज़रें

यूँ गर नज़रें न मिलती तो,
उल्फत न होती,
मोहब्बत न होती,
तुम हमारी न होती,


.

No comments:

Post a Comment