Friday, September 9, 2011

गम के

गम के बाज़ार में खुसी मिल जाती तो,
पार में दरिया न करता, तू यही मिल जाती तो,


.

No comments:

Post a Comment