Thursday, September 22, 2011

टक्कर-ओ-जहमत

टक्कर-ओ-जहमत से थोडा गौर कर लो,
हम पर भी नज़र कर लो थोडा गौर कर लो,
न यूँ फेरों निगाहें, एक उसी से तो हैं आहें,
आरजुएँ पर  उससे हैं, न दूर करो राहें,


.

No comments:

Post a Comment