Friday, September 16, 2011

तेरे दिल

मर गए, मिट गए, तेरे दिल में बस गए,
गर तू अपना दिल भी चीरे, मर हम गए,
तो कैसी ये सिफातन होगी सनम,
दिल तुम्हारा था, बस हम गए सनम,


.

No comments:

Post a Comment