Sunday, September 25, 2011

ख़ुशी-ख़ुशी

यूँ ख़ुशी-ख़ुशी अब तो वक्त बिता रहे हो,
अच्छा है, किसी के काम तो आ रहे हो,
दे रहे उसे ख़ुशी, गम अपने छिपा रहे हो,
क्यूँ अपने दिये को, आसुओं से जला रहे हो,


.

No comments:

Post a Comment