Wednesday, September 14, 2011

लिख्लियाते तरन्नुम

लिख्लियाते तरन्नुम में,
गौर से अब कुछ तो कहो,
लम्हा यूँ बीता जा रहा है,
कुछ तो तन्हाई में कहो,


.

No comments:

Post a Comment