Tuesday, September 13, 2011

तारीफ़-ए-अंजुमन

तारीफ़-ए-अंजुमन लिफाफा न खोल अभी से,
बंद रहने दे, चन्द रोज़ में बात होने लगेगी दिल से,


.

No comments:

Post a Comment