Thursday, September 29, 2011

जख्मों को

यह मत पूँछ, जख्मों को क्यूँ, संभाल के रखा है,
अरे याद उसकी दिलाते हैं, तभी तो पाल रखा है,

.

No comments:

Post a Comment