Thursday, September 15, 2011

क्यूँ सताते

ऐसे क्यूँ सताते हो, रोज़-रोज़ ख्वाबों में क्यूँ आते हो,
मिल लो एक बार रूबरू, रोज़ ख्वाबों में क्यूँ बतियाते हो,

.







No comments:

Post a Comment