Sunday, September 25, 2011

दीवानगी रूह

ये दीवानगी रूह ही समझ सकती है,
जिस्म तो एक जरिया है, रूह न मर सकती है,


.

No comments:

Post a Comment