Wednesday, September 14, 2011

मेरे आने

मेरे आने तक, वो न रुक सकी,
चली गयी, दो लफ्ज़ न कह सकी,
आंसूं भी बहे होंगे, दिल भी बैठा होगा,
न जाने वो इतनी देर क्यूँ कर बैठा होगा,


.

No comments:

Post a Comment