Wednesday, September 14, 2011

न चाहते

अब न चाहते हैं, किसी हुश्न को, किसी हसीना को,
अब तो खुदा को चाहते हैं, बहाते हैं पसीना को,


.

No comments:

Post a Comment