Sunday, September 25, 2011

उसकी नजाकत

आहें भरी तन्हाई में याद उसको किया,
कल जिससे नज़र मिली गौर उसकी नजाकत पर किया,


.

No comments:

Post a Comment