Sunday, September 25, 2011

इन आखों

इन आखों की सिफई गर पढ़ लो,
तो जन्नत नसीब होगी,
इसी जमीन पर यह हुश्न परी,
तेरी शरीक-ए-हयात होगी,


.

No comments:

Post a Comment