Thursday, September 22, 2011

साफ-ओ-गम

है साफ-ओ-गम इस जिन्दगी में सबको,
तो क्या हँसना भूल जाएँ,
हँसते-हँसते क्यूँ न इस गम के पलों को,
ख़ुशी-ख़ुशी झेल जाएँ,


.

No comments:

Post a Comment