Wednesday, September 14, 2011

सैफालियत की

सैफालियत की वजाहत से, वफ़ा करना क्यूँ छोड़ दूँ,
सोच कर जब मोहब्बत नहीं की, वफ़ा करना क्यूँ छोड़ दूँ,


.

No comments:

Post a Comment