Wednesday, September 14, 2011

मेरे अरमान

मेरे अरमान अब भी सुलगते हैं,
हवा न दो आग उलगते हैं,
दिल में छुपा रखे हैं,
ये शोले अब भी भड़कते हैं,


.

No comments:

Post a Comment