Wednesday, September 14, 2011

सफ़र में

सफ़र में जब साथ हो, किसी हसीना का,
बैठ जाए पास, भीग जाए बदन पसीना का,


.

No comments:

Post a Comment