Tuesday, September 27, 2011

जहान-ओ-जिज्बत

जहान-ओ-जिज्बत की जिन्दगी से,
अब आसरा एक आस से बाकी है,
तुम तो चली गयी छोड़कर गोचे से,
बस हमारी यादों का बासरा बाकी है,


.

No comments:

Post a Comment