Wednesday, September 14, 2011

तेरे इखिनियाते

तेरे इखिनियाते में,
अब खुतूत पेश करता हूँ,
है तू बहुत दूर,
तुझे ख़त से सलाम करता हूँ,


.

No comments:

Post a Comment