Wednesday, September 14, 2011

न मोहब्बत

देखो यूँ न मोहब्बत का आशियाना तोड़ो,
यह घराना यूँ न छोड़ो,
तिनका-तिनका दिल का जोड़ा है,
आशुओं की रस्सियों से हमने जोड़ा है,


.

No comments:

Post a Comment