Tuesday, September 13, 2011

तुम किताबें

यूँ गर तुम किताबें को पड़ना छोड़ दो मैं कुछ कहूं,
उतर जाए तेरे जिस्म में जहन में ऐसा कुछ कहूं,


.

No comments:

Post a Comment