Thursday, September 22, 2011

सनम वो

सनम वो जहमत क्यूँ उठाते ही,
गुलाम हाज़िर है,
तलवार न उठाओ कलाई नाज़ुक है,
गर्दन हाज़िर है,


.

No comments:

Post a Comment