Friday, September 30, 2011

ऐसे सफाके

ऐसे सफाके प्यार से,
तुझे मैं क्या समझाऊँ,
तेरा इश्क भी तो है कितना कातिल,
तुझे कैसे मनाऊँ,

.

No comments:

Post a Comment