Friday, September 9, 2011

धोखा ये

धोखा ये हुश्न का मिला,
बात कुछ भी न बनी,
दिल यूँ टूट गया,
वो अपनी भी न बनी,


.

No comments:

Post a Comment