Wednesday, September 14, 2011

ये बरबादियों

ये बरबादियों का जहाँ, क्यूँ तुने बना लिया,
इसको तो दूर कर, ग़मों को क्यूँ अपना लिया,

.



No comments:

Post a Comment