Tuesday, September 27, 2011

सजा दो

सजा दो दरबार, आज हुश्न आनेवाला है,
हुश्न की रौशनी से, आज दरबार रौशन होनेवाला है,


.

No comments:

Post a Comment