Sunday, September 25, 2011

चेहरा छुपकर

वो चेहरा छुपकर इस तरह भागे की,
जैसे नज़र हमारी लग गयी हो,
शर्म-ओ-हया से चेहरा छुपाया की,
जैसे हमारी न होना चाहती हो,


.

No comments:

Post a Comment