Thursday, September 29, 2011

घबराते दिल

घबराते दिल से, बात करते हो,
कंपकपाते हैं ओंठ,  नज़रों से मिलते हो,


.

No comments:

Post a Comment