Thursday, September 15, 2011

निगाह तेरी

हम-ओ-अमज़ा, शर्म तुझे बहुत आती है,
निगाह तेरी झुक जाती है, गाल तेरे लाल कर जाती है,

.









No comments:

Post a Comment