Friday, September 9, 2011

आसुओं की

आसुओं की स्याही में डुबोकर,
अपना जिन्दगीनामा लिखा,
दिखाई उसे ही देगा,
जिसने इस तरह बेवफाई का गम झेला,


.

No comments:

Post a Comment