Monday, August 29, 2011

सुबकते-सुबकते

सुबकते-सुबकते कब सुबह हो गयी, पता न पड़ा,
जागते-जागते कब नींद लग गयी, पता न पड़ा,


.

No comments:

Post a Comment