Tuesday, October 4, 2011

किसे हमदम

किसे हमदम बनाऊं, किसे साहिल बनाऊं,
किसे ज़ाफ़रान-ए-मोहब्बत अब तो बनाऊं,
कुछ महसूश नहीं होता, दिल ये खलूस में,
खाली-खाली तन्हा रहता, अपने मकूश में,

.

No comments:

Post a Comment