Friday, October 28, 2011

इनकी यह

इनकी यह तिकड़ी कितना छा गई है,
हर किसी के मन को भा गई है,
हर किसी के दिल में समां गई है,
हँसते-हँसाते कितना इल्म थमा गई है,

.

No comments:

Post a Comment