Saturday, October 8, 2011

हमसे तो

हमसे तो आपने कहीं न,
जिन्दगी की बातें,
फिर भी हम समझ गए,
आपकी सब बातें,

No comments:

Post a Comment