Monday, October 24, 2011

वो दिल की

वो दिल की दिल में रख लेते हैं,
हम जुबां से सब कह देते हैं,
बस एक गुनाह कर लेते हैं,
ज़ज्बात अपने जाहिर कर देते हैं,


.

No comments:

Post a Comment