Thursday, October 13, 2011

हमसाया हुश्न

हमसाया हुश्न नवीसों का,
करके खली ये मकाँ चला,
अब कोई और यहाँ रह ले,
मैं तो अपने मकाँ चला,

.

No comments:

Post a Comment