Saturday, October 15, 2011

हर वफ़ा

हर वफ़ा से पहले, नज़र कोई न चुराता है,
जब बेवफा हो जाता है, न भी न आता है,


.

No comments:

Post a Comment